भोजपुरी विशेष: का हसनपुर में तेजपरताप के जीत के गरांटी बा?

सनपुर चीनी मिल असटेट बैंक के बहरी बहुत भीड़ रहे. सकलदेव जादो के सुभाष चौउक जाये के हड़बड़ी रहे. लेकिन रोड पs अतना आवाजाही रहे कि उनका सैकिल में बरेक मारे के परल. धाका लागत -लागत बांचल. सकलदेव सैकिल से उतरले मोनासिब समझले. रास्ता में एगो अदिमी से पुछले, बैंक के बहरी अतना भीड़ कहे बा, का कुछुओ भइल का बा ? उ अदिमी सकलदेव के एक नजर देखलस अ हंस के कहलस, कवना लोक में रहे लs, ई नइखs जानत कि आज तेजपरताप बैंक में खाता कोलवावे खातिर आइल बाड़े ? चुनाव लड़े खातिर तेजपरताप के बैंक खाता के जरूरत पड़ी. उ बैंक में बइठल बाड़े एह से एतना भीड़ बा. सकलदेव के इयाद आगइल कि अरे हां, काल्ह तs लालू जी के बेटा के नौमनेसन बा. उ सुभाष चौउक पs पहुंचले तs देखले कि माधो राय के दोकान पs मधेसर बइठल रहन. सकलदेव के लइका पटना में इंजीनियर रहन. उ मधेसर के हाथे पइसा भेजले रहन. जब सकलदेव के पेइसा भेंटा गइल तs उनका सबूर हो गइल. माधो राय कहले, का सकलदेव रास्ता में तेजपरताप के देखलs कि ना ? तेजपरताप के अइला से हसनपुर में चहल-पहल बढ़ गइल बा. लालू जी के नाम के असर तs बड़ले नू बा.

कहीं तेज परताप के लेनी के देनी ना पर जाय
माधो राय के सवाल पs सकलदेव कहले, ना भेंट तs ना भइल लेकिन सुननी कि तेजपरताप बैंक में बइठल बाड़े. ई सुन के मधेसर कहले, आच्छा ई बताईं कि तेजपरताप एतना दूर से अलेकसन लड़े हसनपुर काहे अइले ? का महुआ में कवनो कसर रहे का? उनका तsहसनपुर के चौहद्दियो ना मालूम होई, फेर भोट कइसे मंगिहें? माधो राय कहले, तेजपरताप कवनो अपना दम पर लड़े आइल बाड़े, उनका तs लालूए जी के नाम के सहारा बा. हसनपुर जादो (यादव) के जठ हs, इहे जान के तेजपरताप एहिजा…. सकलदेव बिचही माधो राय के बात के काट के कहले, एकर का मतलब बा कि जे जादो होई उ राजदे के भोट दिही ? जदयू के राज कुमारो राय तs जादवे हवें, उहो तs अपना जाते के भोट से जीतल बाड़े. राजकुमार राय दू बेर से इहां जीत रहल बाड़े. 2010 में तs राज कुमार राजद के सुनील पुसपम के हरा के बिधायक बनल रहन. जदयू के  जादो, राजद के जादो के हरा देले रहे. ऐह से इ ना कल जा सकेला कि जे जादो होई उ तेजपरताप के भोट देबे करी. 2020 में जादो से जादो के भिडंत बा. तेजपरताप के कहीं लेनी के देनी ना पर जाय.हसनपुर के लड़ाई जादो बनाम जादो
सकलदेव हसनपुर के राजनीत के नसे- नस जानत रहन. उ कहले, ई सही बा कि 1967 से आज ले जे भी हसनपुर से जीतल, उ जादवे जीतल. लेकिन अइसन नइखे कि इहवां भोट खाली जाते के नाम पs परेला, कंडिडेट अउर पाटी के भी अहमियत बा. गजेनदर परसाद हिमांशु इहवां के बहुत बड समाजवादी नेता रहन. उ 1967 में संसोपा के टिकट पs इहवां से पहिला बेर जीतल रहन. ओहघरी उनकर उमिर 26 साल रहे. उ हसनपुर से 7 बेर बिधायक बनले. उ एह सा ना जिततs रहन कि जादो रहन, उनकर छबि ईमानदार समाजवादी के रहे. बहुत अदिमी तs उनकर जातो ना जानत रहन, काहे से कि उ आपन टाइटिल हिमांशु लिखत रहन. उ चार पाटी से बिधायक भइले ,संसोपा, जनता पाटी, जनता दल अउर जदयू . सकलदेल तनी दम धइले, फेन कहले, गजेनगर हिमांशु बड़का नेता रहन लेकिन एक बेर जनता उनको खिलाफ हो गइल. 1980 में हिमांशु कांगरेस के रजिनदर जादो से हार गइले. कांगरेस के जादो समाजवादी जादो के हरा देलस.  दू बेर राजद के सुनील पुसपम के जीत मिलल. उ फरवरी 2005 अउर अकटूबर 2005 के दूनो चुनाव में बाजी मरले रहन. एकरा बाद राजद के जादो के इहां से खूंटा कबर गइल. 2010 से  हसनपुर सीट जदयू के राज कुमार राय के कबजा में बा. तेजपरतार अगर जादो हवें तs राज कुमारो जादवे हवें, अब कइसे फरियाई ? हसनपुर में का तेजपरताप के जीत के गरांटी बा?

भोजपुरी में जयंती पर विशेष – नेता लोगन के एक पूरी पीढ़ी के असली गुरु – जेपी यानी जय प्रकाश नारायण

तेजपरताप के मोसकिल
माधो राय आपन विचार कहले, तेजपरताप के बाहरी होखे से कुछ दिकत हो सकेला. राजकुमार राय लोकल हवें, उ तेजपरताप के बाहरी के मुद्दा उठा सकेले. हसनपुर में इ बात के चरचा पूरजोर बा कि तेजपरताप, ऐशवरया के डरे महुआ से हट के इहहां आइल बड़े. अगर खुदा ना खास्ते उनकर ससुर चनरिका राय इहवां परचार खातिर आ अइले तs तेजपरताप के मोसकिल हो जाई. ऐसवरया भले चुनाव नइखी लड़त लेकिन लालू परिवार से उनकर अनराजी जगजाहिर बा. तेजपरताप अपना हाफिडेबिट में लिखले बाड़े कि उनका पs घरेलू हिंसा के केस दरज बा. अगर कवनो आरोप लागी तs झुठलाइयो ना सकस. ऐसवरया अक्टूबर 2019 में घरेलू हिंसा के केस कइले रही. अइसे अबहीं तक ऐसवरया कवनो राजनीतिक बेयान देले नइखी. अब चनरिका राय आगा कवन कदम उठाइहें, केहू नइखे जानत . तेजपरपताप हसनपुर आइल तs बाड़े लेकिन इ कवनो जरूरी नइखे कि उ जितिए जास.

Source link