अमेरिकी चुनाव 2020: कमला हैरिस के नाम का गलत उच्चारण कर बुरी तरह घिरे रिपब्लिकन नेता

हाइलाइट्स:

  • रिपब्लिकन पार्टी के सीनेटर डेविड परड्यू कमला हैरिस का गलत नाम उच्‍चारण कर बुरी तरह से फंसे
  • इससे खफा कमला समर्थकों ने ‘माय नेम इज’, ‘आई स्टैंड विथ कमला’’ नाम से अभियान शुरू किया
  • डेविड परड्यू ने एक चुनावी रैली में हैरिस का लगातार गलत नाम लेकर उनका मजाक उड़ाया था

वॉशिंगटन
अमेरिका के जॉर्जिया में एक चुनावी रैली में रिपब्लिकन पार्टी के सीनेटर डेविड परड्यू डेमोक्रेटिक पार्टी की ओर से उप-राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार कमला हैरिस का लगातार गलत नाम उच्‍चारण कर बुरी तरह से फंस गए हैं। इससे खफा कमला हैरिस समर्थकों ने ‘माय नेम इज’ और ‘आई स्टैंड विथ कमला’’ नाम से ऑनलाइन अभियान शुरू किया है।

दरअसल, परड्यू ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की उम्मीदवारी के समर्थन में हुई एक चुनावी रैली में हैरिस का लगातार गलत नाम लेकर उनका मजाक उड़ाया था। शुक्रवार को मेकन शहर में एक रैली में परड्यू ने हैरिस के लिए कहा था, ‘काह-मह-ला? कमला- मला-मला? पता नहीं क्या है।’ गलत नाम लेने और इस प्रकार से मजाक उड़ाने से हैरिस के समर्थक नाराज हो गए।

अमेरिका में घटता जा रहा डोनाल्ड ट्रंप का असर? टाउन हॉल में जो बाइडेन से पिछड़े

कट्टरपंथ के खिलाफ अभियान ‘माय नेम इज’ की शुरुआत
वहीं हैरिस की प्रवक्ता सबरीना सिंह ने कहा, ‘मैं इसे आसान करती हूं, अगर आप इसका उच्चारण कर सकें पूर्व सीनेटर डेविड परड्यू तो आप कह सकते हैं, होने वाली उप राष्ट्रपति कमला हैरिस।’ बाइडेन प्रचार अभियान के ‘एशियन अमेरिकन एंड पैसेफिक आइलैंडर आउटरीच’ समन्वयक अमित जानी ने घटना की निंदा की और ‘कट्टरपंथ के खिलाफ’ अभियान ‘माय नेम इज’ की शुरुआत की।

‘बजफीड’ की शनिवार की एक रिपोर्ट के अनुसार हैरिस के नाम का गलत उच्चारण करके उनका मजाक उड़ाने के लिए परड्यू को काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है। वहीं, परड्यू की प्रवक्ता ने कहा कि सीनेटर ने नाम का गलत उच्चारण किया लेकिन उनका कोई मतलब नहीं था। बहुत से लोगों ने घटना पर आक्रोश जताते हुए अपने नाम की उत्पत्ति और उसका मतलब बताया।

‘मेरा नाम प्रीत है, जिसका अर्थ है प्यार’
न्यूयॉर्क के दक्षिण जिले की पूर्व अटॉर्नी जनरल प्रीत भरारा ने ट्वीट किया,‘मेरा नाम प्रीत है, जिसका अर्थ है प्यार।’ मीना हैरिस ने ट्वीट किया, ‘मेरा नाम मीनाक्षी है। मेरा नाम हिंदू देवी और मेरी परदादी के नाम पर रखा गया। मेरा ताल्लुक उन मजबूत महिलाओं से है, जिन्होंने मुझे अपनी विरासत पर गर्व करना सिखाया और सम्मान मांगना सिखाया, खासतौर पर सेंडाविडपरड्यू जैसे नस्लीय श्वेत पुरुष से, जो हमसे खौफ खाते हैं।’ इनके अलावा भारतीय मूल की कई नामचीन हस्तियों ने भी अपने हिंदी नामों की व्याख्या की और घटना के प्रति आक्रोश व्यक्त किया।

Source link